जम्मू और कश्मीर के हंदवाड़ा में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सेना के कर्नल, मेजर और तीन जवान शहीद हो गए. एक ओर जहां देश कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रहा तो वहीं कश्मीर में सुरक्षा बल आतंकियों के मंसूबे को नाकाम करने में जुटे हैं. इसी कड़ी में हंदवाड़ा में सुरक्षा बलों ने एक मुठभेड़ में दो आतंकियों को ढेर कर दिया. हालांकि इसमें 5 सुरक्षा कर्मी भी शहीद हो गए.

उनमें से एक 21 राष्ट्रीय राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल आशुतोष शर्मा थे, जिन्होंने 2 दशकों से अधिक समय तक देश की सेवा की थी।

 

हिंदुस्तान टाइम्स के इंटरव्यू में, उनके बड़े भाई पीयूष शर्मा ने उनकी पिछले साल होली पर कर्नल की अंतिम यात्रा के घर के बारे में बताया :

 

होलीका दहन के दिन वो लगभग 7:30 बजे आया, और हम सबको उसने सरप्राइज किया, और हमने दूसरे दिन बहुत ही एन्जॉय किया

 

कर्नल शर्मा की उनके परिवार के साथ आखिरी बातचीत 1 मई को हुई थी, तब उन्होंने उन्हें बताया था कि उनकी यूनिट 21 RR दिवस को कोरोना महामारी के चलते इस बार नहीं मनाया जायेगा।

 

कर्नल शर्मा मूल रूप से यूपी के रहने वाले थे, और उन्हें 2018 और 2019 में दो बार वीरता के लिए सेना का पदक मिल चूका है।

हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति महोदय और अन्य लोगो ने सोशल मीडिया के माध्यम से श्रद्धांजलि दी और कहा इस बलिदान को कभी भुला नहीं जायेगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी:

 

माननीय राष्ट्रपति जी ने कहा :

बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर जी :

हमे भी ऐसे शहीदों को कभी भूलना नहीं चाहिए ये हमारी रक्षा के लिए अपनी जान देते है ऐसे लोगो को हमारा नमन !