इस कोरोना महामारी के लॉकडाउन के बीच फसे हुए लाखो लोग इस समय खाने को और घर जाने को जूझ रहे हैं। और ये लोग इस समय घर जाने के लिए कोई भी रिस्क लेने को तैयार हैं जैसे की हमने पहले भी ऐसे कई न्यूज़ सुनी और देखि हैं जहाँ पर सायकल पहले चुराया और फिर वे अपने घर को गए।

अब ऐसा ही एक मामला सामने आया हैं जहाँ पर एक युवको के समूह ने मोटर सायकल चुराई हैं। खबरों के मुताबिक, उनमें से एक 30 वर्षीय प्रशांत था, जिसने कोयम्बटूर के सुलूर के 34 वर्षीय सुरेश कुमार की बाइक चुराई थी। उन्होंने ये कथित तौर ऐसा इसलिए किया ताकि वह तमिलनाडु के तिरुवरूर जिले मन्नारगुड़ी शहर में कोयंबटूर से वापस घर जा सके।

लेकिन जैसे ही जब प्रशांत मन्नारगुडी में अपने घर पहुंचे, उन्हें पता चल गया कि बाइक के मालिक इसके बारे में जांच कर रहे हैं उसके कोई भी परेशानी से बचने के लिए प्रशांत ने वाहन को कूरियर के माध्यम से वापस भेज दिया।

 

poice-station1

सोर्स : गूगल

18 मई को हुई जब सुरेश कुमार को पता चला कि उनकी बाइक वहाँ नहीं थी जहां उन्होंने उसे पार्क किया था। बाइक की खोज ना कर पाने के बाद उन्होंने सुलूर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई और पुलिस से कोई खास मदद नहीं मिली। फिर सुरेश ने पूरा मामले की जाँच खुद से शुरुवात की और उन्होंने CCTV – वीडियोस का सहारा लिया।

मैंने अपने सेलफोन पर वीडियो को ले लिए और चोर के ठिकाने का पता लगाने के लिए अपने पड़ोसियों से संपर्क किया। किसी ने उसकी पहचान तंजावुर जिले के मन्नारगुडी के प्रशांत के रूप में की, जो कन्नमपलायम पिरिवु में एक बेकरी में काम करता था और अपने परिवार के साथ इलाके में रहता था। मुझे पता चला कि वह अपनी जन्मभूमि वापस चला गया हैं।

new.1

सोर्स : गूगल

इस घटना के दो हफ्ते बाद, सुरेश को कूरियर कार्यालय से एक कॉल आया, जिसमें कहा गया कि उनकी बाइक उनके घर तक पहुंचना हैं। इसके बाद उन्होंने फैसला किया कि वह प्रशांत के खिलाफ मामले को आगे नहीं बढ़ाएंगे क्योंकि बाइक वापस अच्छी स्थिति में आ गई और कोई नुकसान नहीं हुआ।