बॉलीवुड से जुड़े ड्रग कनेक्शंस को लेकर NCB तब से सीरियस है जब से सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड का case सामने आया था। हालही में ड्रग एंगल में अर्जुन रामपाल की गर्लफ्रेंड ‘गैब्रिएला’ के भाई ‘अगिसियालोस’ का नाम सामने आया था। उसके बाद उसकी व्हाट्सप्प चैट से अर्जुन रामपाल का नाम भी  सामने आया। जिसके बाद NCB ने अर्जुन को कई बार पूछताछ के लिए बुलाया।

rhea-priyanka_sushant

अर्जुन और अगिसियालोस के चैट के सामने आने के बाद 9 नवंबर को एनसीबी की टीम ने अर्जुन रामपाल के बांद्रा वाले घर यानी कि कैप्री हाइट्स में रेड कर दी। काफी देर चली रेड के बाद पुलिस को अर्जुन के घर से दो तरह की गोलिया मिली, जिनका नाम  ‘ULTRACET’ और ‘CLONAZEPAM’

aRJUN-RAMPAL

घर पर रेड के बाद NCB ने 11 और 12 नवंबर को अर्जुन की गर्लफ्रेंड से पूछताछ की जिसके दौरान उनके हाथ कोई साबुत नहीं लगा। उसके बाद 13 नवंबर को एक बार फिर से अर्जुन को पूछताछ के लिए बुलाया गया और अर्जुन से उस व्हाट्सप्प चाट के बारे में पूछा गया। अर्जुन ने बताया की वो वह अर्जुन नहीं है, जिसकी चैट NCB को मिली है। अर्जुन ने बताया की वो अपनी गर्लफ्रेंड के भाई से बहुत कम बात करते है। अर्जुन के इस बयान के बाद NCB ने उस नंबर की जांच की और  पाया की अर्जुन सच कह रहे है।

अर्जुन ने ये भी साफ़ कर दिया की जो दो तरह की गोलिया NCB के अधिकारियो को मेरे घर से मिली है उनमे से एक मेरे कुत्ते की दर्द की दवाई है और दूसरी मेरी बहन के ANXIETY के लिए है। दोनों ही दवाईयों डॉक्टर्स ने प्रिस्क्रिप्शन्स के बाद की ली गयी है। मुझ पर लगाए गए सभी आरोप एकदम बेबुनियाद है। जिसके बाद NCB उन प्रिस्क्रिप्शन्स की जांच में जुट गयी। उसके बाद NCB ने बांद्रा के वैटनरी डॉक्टर का स्टेटमेंट रिकॉर्ड किया जिसमें डॉक्टर ने एनसीबी को यह बताया कि ये दवा उन्होंने अर्जुन रामपाल के कुत्ते को जून महीने में दी थी. उनके कुत्ते के जोड़ो में बहुत ज्यादा दर्द होता है और तब वो जोर जोर से चिल्लाने लगता है जिसके बाद उसे इस दवाई की बहुत जरूरत पड़ती है। फिर उनोने दूसरी गोली की जांच की जो अर्जुन की  बहन की थी और जिसे दिल्ली के रोहित गर्ग नाम के डॉक्टर ने प्रिस्क्राइब किया था।

arjun-rampal

NCB को जाँच में यह भी पता चला की दूसरी टैबलेट का प्रिस्क्रिप्शन अर्जुन रामपाल ने बैक डेट में बनवाया गया था। NCB ने एक बार फिर अर्जुन को पूछताछ के लिए बुलाया और उस बैकडटेड प्रिस्क्रिप्शन के बारे में पूछा, जिस पर अर्जुन ने यह कहा की ये टेबलेट्स उनकी बहन की है उन्हें इस बारे में कुछ नई पता। अभी NCB ने इस बारे में अर्जुन की बहन से पूछताछ नहीं की है लेकिन एपीबी न्यूज़ से बात करते हुए NCB के एक अधिकारी ने कहा की रेड के बाद ही दवा की बैकडेटेड प्रिस्क्रिप्सन बनवाई गई है, इसपर हम क्या और कैसे आगे की कानूनी करवाई कर सकते हैं उसपर हम अपने कानूनी सलाहकारों से सलाह मशवरा ले रहे हैं.