बिहार कैडर के 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी गुप्तेश्वर पांडे ने हाल ही में बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच के दौरान सुर्खियां बटोरी थीं। दिवंगत अभिनेता की मौत के मामले में पांडे मुंबई पुलिस की खुलेआम आलोचना कर रहे थे।

gupteshwar-pandey

हाल ही में आयी ख़बर के अनुसार पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) बिहार, गुप्तेश्वर पांडे सेवानिवृत्त हो चुके हैं। उन्होंने VRS के लिए आवेदन किया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, राज्यपाल फ़ागू चौहान ने उनका इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया है। गुप्तेश्वर पांडे ने भी अपने VRS लेने की पुष्टि करते हुए कहा कि ऐसा करना उनका संवैधानिक अधिकार है।

DGP-Gupteswar

हालांकि, उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि उनके रिटायरमेंट का सुशांत सिंह राजपूत मामले से कोई लेना-देना नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘पिछले दो महीनों से मैं परेशान हो रहा था और मेरा जीवन दयनीय होता जा रहा था। मुझे अपनी सेवानिवृत्ति के बारे में पूछने के लिए हज़ारों फ़ोन कॉल आए. मैं तंग आ गया था।’

पांडे ने आगे कहा, ‘मेरी 34 साल की सेवा में कोई भी राजनीतिक दल या नेता मेरे फ़ैसले पर संदेह नहीं जता सकता है।’

उनका ये फ़ैसला ऐसे वक़्त में आया है, जब इस साल अक्टूबर-नवंबर में बिहार विधानसभा के चुनाव होने हैं। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि वो आगामी चुनाव में जनता दल यूनाइटेड (JDU) के टिकट पर चुनावी अखाड़े में उतर सकते हैं।

gupteshwar-pandey

बता दें कि गुप्तेश्वर पांडे ने 2014 में भी VRS के लिए आवेदन किया था। वो लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन राज्य सरकार ने उनका आवेदन स्वीकार नहीं किया था, जिसके बाद वह फिर पुलिस सर्विस में लौट गए। अब उनके इस्तीफ़े के बाद डीजीपी, होम गार्ड, एस.के. सिंघल को बिहार डीजीपी का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।