भारत में 31 लाख से अधिक छात्रों का इंतजार आज खत्म हो गया हैं जैसे की कुछ अभिभावकों ने सुप्रीम कोर्ट मैं पहले से बची हुई सीबीएसई बोर्ड परीक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। मंगलवार को इस पर कोर्ट में सुनवाई हुई थी। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, कि 25 जून दोपहर 2 बजे तक अंतिम निर्णय दे दिया जाएगा।

आज सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और 12वीं क्लास के बचे हुए एग्जाम को कराने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। महाराष्ट्र, दिल्ली और ओडिशा ने परीक्षा कराने में असमर्थता जताने का हलफनामा दिया है। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि 10वीं और 12वीं की 1 से 15 जुलाई को होने वाली परीक्षा को कैंसिल कर दिया गया है।

सीबीएसई परीक्षाओं के कैंसिल होने से सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों की प्रवेश प्रक्रिया के साथ-साथ जेईई मेन और नीट 2020 सहित राष्ट्रीय प्रवेश परीक्षा पर भी पड़ेगा।

cbsc-student

क्या होगा अगर CBSE ने रद्द की परीक्षाएं :

सीबीएसई अगर परीक्षा रद्द करता है तो वैकल्पिक मूल्यांकन प्रणाली के आधार पर परिणाम घोषित किया जाएगा। CBSE ने वैसे भी परीक्षा के लिए आंतरिक मूल्यांकन मानदंड का पालन करने का सुझाव दिया था। बता दें, सीबीएसई 29 मुख्य विषयों की परीक्षा का आयोजन करने जा रहा था।