एक्ट्रेस कंगना ने किसान आंदोलन को लेकर कई ट्वीट्स किए। उन्होंने एक बुजुर्ग महिला की फोटो शेयर करते हुए उनकी तुलना शाहीन बाग की बिलकिस दादी से की। जिस पर सिंगर-एक्टर दिलजीत दोसांझ ने अपनी प्रतिक्रिया दी। इसके बाद कंगना और दिलजीत ट्विटर पर भिड़ गए।

Diljit-kangana-twitter-war

दिलजीत ने ट्विटर पर लिखा था- फिल्म हम खुद प्रोड्यूस कर लेंगे, किसी से पैसे लेने की जरूरत नहीं। अपनी मैडम को समझाओं हमारी बुजुर्गों संग तमीज़ से बात करें।

इस पर कंगना ने रिप्लाई करते हुए लिखा- ओ, करण जौहर के पालतू. जो दादी शाहीन बाग में अपनी सिटिजनशप के लिए प्रोटेस्ट कर रही थी, वही बिलकिस बानो दादी जी किसानों के MSP के लिए भी प्रोटेस्ट करते हुई दिखी। महिंदर कौर जी को तो मैं जानती भी नहीं। क्या ड्रामा चलाया है, तुम लोगों ने? इसे तुरंत बंद करो।

बस फिर क्या इसके बाद दोनों की तरफ से लगातार ट्वीट किए गए।

इंडस्ट्री में इससे पहले भी कई सितारों के बीच ट्विटर वॉर देखने को मिली है। आइए डालते हैं एक नजर।

ट्विंकल खन्ना-चेतन भगत

अभिनेत्री ट्विंकल खन्ना और लेखक चेतन भगत के बीच ट्विटर पर जंग देखने को मिली थी। ये सब कुछ ट्विंकल के एक फॉलोअर के कारण हुआ जिसने इन दो शख्सियतों की तुलना कर डाली।

फैन ने ट्वीट ने कर कहा था, ‘आप बहुत अच्छा लिखती हैं. आपको अपना नाम बदलकर चैताली भगत रखने की कोई जरूरत नहीं.’ इस पर ट्विंकल ने जवाब दिया, ‘बदलना ही पड़ेगा, क्योंकि उन्हें तो ‘नच बलिए’ जज करने का काम मिलता है जबकि मेरे फ्लोर पर तो बस कुत्ता उलटी या पॉटी करता है, उसी को जज कर पाने का मौका मिलता है, जिंदगी ऐसी ही है। ‘ इस ट्वीट को देखते ही चेतन भगत ने जवाब दिया था, ‘वैसे मुझे लगता है तुम्हारे काम में ज्यादा चैलेंज है, कैसे जज कर पाती हो दोनों गन्दी चीजों में, जरा बताओ?

इसके बाद ट्विंकल और चेतन दोनों ने कई ट्वीट्स किए थे।

करण जौहर-रामगोपाल वर्मा

साल 2013 में 5 सितंबर को टीचर्स डे के दिन रामगोपाल वर्मा ने ट्विटर पर लिखा- अगर कोई करण जौहर की ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ से शुरू करता है और ‘टीचर ऑफ द ईयर’ बनाता है, तो ये ‘डिजास्टर ऑफ द ईयर’ हो जाएगी।

इस पर करण ने रिप्लाई करते हुए लिखा- रामू डिजास्टर ऑफ द ईयर बनाना आपका क्षेत्र है। कोई भी, कभी भी उस कंफर्टज़ोन में नहीं जा सकता, जो आपने खुद के लिए बनाया है। इसके बाद राम गोपाल ने कुछ और ट्वीट्स और किए थे।

रामगोपाल वर्मा और अनुराग कश्यप

फिल्म ‘बॉम्बे वेलवेट ‘ के बॉक्स ऑफिस पर पिट जाने के बाद डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने फेसबुक पर एक पोस्ट कर कहा था ‘मैं फिर आऊंगा। ‘ और इसके बाद निर्माता निर्देशक रामगोपाल वर्मा ने अनुराग के ऊपर तंज शुरू कर दिए थे।

रामगोपाल ने कहा था- दर्शकों द्वारा नकारी गई फिल्म के साथ एक डायरेक्टर का खड़े रहना बिल्कुल उसी तरह है जैसे एक लड़की से कहना कि मैं खुद से बहुत प्यार करता हूं, तुम मुझे प्यार करो या नहीं, इसकी मुझे कोई परवाह नहीं। ‘

इसका जवाब देते हुए अनुराग ने कहा – ‘सर मैं आपको बहुत प्यार करता हूं, अब मद्य पान को अलग रखकर सो जाइए। ‘

कंगना रनौत और तापसी पन्नू

Twitter-war-between-Kangana-Ranaut-and-Taapsee-Pannu-Team-Kangana-calls-Taapsee-Chaploos

कंगन रनौत और तापसी पन्नू के बीच सोशल मीडिया पर काफी बहस हो चुकी है। कंगना ने तापसी को बी ग्रेड एक्ट्रेस भी कह दिया था. इस पर तापसी ने भी जवाब दिया था। तापसी ने कंगना के बारे में बात करते हुए कहा भी था कि मेरी राय अगर आपकी राय से नहीं मिलती है तो इसका मतलब ये नहीं कि मैं गलत हूं। आपका पाखंड तभी सामने आ जाता है जब आप खुद को आउटसाइडर्स के लिए लड़ने वाली एक्ट्रेस होने का दावा करती हैं और इसी दौरान कई आउटसाइडर्स को नीचा भी दिखाने की कोशिश करती हैं।

अनुराग और कंगना

कंगना रनौत और अनुराग कश्यप के बीच भी ट्विटर वॉर देखने को मिल चुकी है। कंगना ने अपने एक ट्वीट में कहा था कि मैं एक क्षत्राणी हूं। सर कटा सकती हूं, लेकिन सर झुका सकती नहीं! राष्ट्र के सम्मान के लिए हमेशा आवाज़ बुलंद करती रहूंगी। मान, सम्मान, स्वाभिमान के साथ जी हूं और गर्व से राष्ट्रवादी बनकर जीती रहूंगी। सिद्धांत के साथ नहीं कभी समझौता की हूं नहीं कभी करूंगी. जय हिंद।

अनुराग ने इस ट्वीट को रिट्वीट किया और तंज कसते हुए कहा- बस एक तू ही है बहन – इकलौती मणिकर्णिका. तू ना चार पांच को ले के चढ़ जा चीन पे. देखो कितना अंदर तक घुस आए हैं। दिखा दे उनको भी कि जब तक तू है इस देश का कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता। तेरे घर से एक दिन का सफ़र है बस LAC का। जा शेरनी. जय हिंद।

कंगना ने भी अनुराग के ट्वीट का जवाब दिया और कहा- ठीक है मैं बॉर्डर पे जाती हूं आप अगले ओलम्पिक्स में चले जाना, देश को गोल्ड मेडल्स चाहिए। हा हा हा। यह सब कोई बी ग्रेड फ़िल्म नहीं है जहां कलाकार कुछ भी बन जाता है, आप तो मेटाफॉर्स को को लिटरली लेने लगे, इतने मंदबुद्धि कब से हो गए। जब हमारी दोस्ती थी तब तो काफी चतुर थे।