इस कोरोना की महामारी मैं कई लोग एक दस दूसरो की मदद कर रहे हैं। ये बहुत अच्छी बात हैं तभी हम महामारी से निपट सकते हैं, सरकार ने भी हम सभी से आग्रह किया है, की अगर हमारे पास कोई परेशान इंसान हो तो हमे उसकी मदद करनी चाहिए और वो मदद कुछ भी हो सकती है जैसे खाना खिलाना, पैसे से हेल्प या फिर किरायेदार का किराया न लेना।

ऐसा ही कुछ काम ओडिशा के बरहमपुर के सोमनाथ नगर के मक़ान मालिक मुरली मोहन आचार्य ने किया। इनके घर पर रह रहे १२ लोग जिन्हे प्यासे की समस्या थी तो फिर उन्होंने इनसे किराया नहीं लिया साथ हुए सकत ही कुछ दिनों का राशन भी दिया।

उन्होंने कहा, ‘लॉकडाउन के कारण मेरे 12 किरायेदारों को बहुत ज़्यादा आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि लॉकडाउन के कारण मार्च महीने से ही उनका व्‍यापार बंद पड़ा हैं. 12 में से तीन अपने परिवारों के साथ अपने पैतृक गांवों के लिए रवाना हो गए हैं. मैंने अपने किरायेदारों की स्थिति को देखते हुए उनका मई का किराया माफ़ कर दिया. इस मुश्क़िल समय में उनका परिवार भूखा न सोए इसके लिए प्रत्येक परिवार को 25 किलो चावल दिया।

सोर्स : गूगल

बरहामपुर के उपजिलाधिकारी शिंदे दत्तात्रेय भाऊसाहेब ने भी उनके इस कदम की सरहाना की। गौरतलब हैं की ओडिशा के मुख़्यमंत्री ने भी अपील की थी कोई भी अपने किरायेदारों से किराया न ले।

यह एक ऐसा समय जहा पर हम सभी को साथ मिलकर आना चाहिए, माकन मालिकों को भी कोशिश करनी छाइये की अगर वे सम्पन हैं तो उन्हें जरुरत मंद किरायेदारों को किराया माफ करना छाइये।