अमेज़न प्राइम वीडियो पर शुक्रवार को वेब सीरीज़ ‘मिर्जापुर 2’ रिलीज़ हो गयी है। इतने लंबे इंतजार के बाद आखिर वेब सीरीज ‘मिर्ज़ापुर’ का दूसरा सीज़न ‘मिर्जापुर 2’ रिलीज़ हो चुका है। ‘मिर्जापुर 2’ मिहिर देसाई और गुरमीत सिंह द्वारा निर्देशित की गई है।

mirzapur

‘मिर्जापुर 2’ के 10 पार्ट्स है और ये सभी 10 पार्ट्स ओटीटी प्‍लेटफॉर्म पर आ चुके हैं। पिछली बार की तरह ही इस बार भी इस वेब सीरीज के सभी कैरेक्टर काफी जबरदस्त किरदार निभाते हुए नजर आ रहे हैं।

mirzapur-season-2

खास तौर पर कालीन भैया, मुन्ना भैया और गुड्डू भैया ने इस सीजन भी अपनी कला का जादू फिर से दिखाया है। लोगों के जबान पर आज तक ‘मिर्जापुर’ के डायलॉग्स चढ़े हुए हैं। वहीं ‘मिर्जापुर 2’ के आते ही इसके डायलॉग्स भी बड़े धड़ल्ले से छा रहे हैं। इन डायलॉग्स की वजह से माना जा रहा है कि इस बार भी ‘मिर्जापुर 2’ भी फैंस को काफी पसंद आने वाला है।

mirzapur

आइए देखते हैं ‘मिर्जापुर 2’ के 10 बेस्ट डायलॉग्स

 

1- बातें ज्यादा हुई नहीं, बस आहट लेकर आ गए।

2- शादीशुदा मर्द को अपनी स्त्री से भय न हो तो इसका मतलब है कि शादी में कुछ गड़बड़ है।

3- औरत चाहे चंबल की हो या पूर्वांचल की, जब गन उठाई है तो इसका मतलब है कि दिक्कत में है।

4- शर्मा से क्या शर्माना, दिस इज ए कॉमन डिजीज।

5- कुछ लोग बाहुबली पैदा होते हैं और कुछ को बनाना पड़ता है, इनको बाहुबली बनाएंगे।

6- दिखाते समय कॉन्फिडेंस हो तो पब्लिक पूछती नहीं कि फाइल में क्या है।

7- जब कुर्बानी देने का टाइम आए तो सिपाही की दी जाती है. राजा और राजकुमार जिंदा रहते हैं , गद्दी पर बैठने के लिए।

8- नेता जी बनना है तो गुंडे पालों, गुंडे मत बनो।

9- गद्दी पर चाहे हम बैठें या मुन्ना नियम सेम होगा।

10- हमारा उद्देश्य एक है… जान से मारेंगे… क्योंकि मारेंगे तभी जी पाएंगे।