सबसे पहले मोदी सरकार 2014 मैं सत्ता पर आयी थी, और फिर दूसरा पंचवर्षीय यानि 2019 मैं फिर से मोदी सरकार अपनी सत्ता को कायम रखने मैं सफल हुयी थी। अब आज मोदी जी के दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा हो गया है। इस मौके पर पीएम मोदी ने देशवासियों को एक खत लिखा है। और साथ ही वीडियो सन्देश भी जारी किया हैं।

 

मोदी जी ने अपने खत मैं कुछ अहम् बातो को मुख्या तरीके से जिक्र किया हैं, जो की हम लोग भी मनाते की वे ऐतिहासिक फैसले थे। वैसे आप सब भी जानते जैसे की आर्टिकल 370 में संशोधन, तीन तलाक, सीएए ये बड़े और बहुत ही गंभीर मसले थे हमारे देश के।

modi

सोर्स : गूगल

1. राष्ट्रीय एकता-अखंडता के लिए आर्टिकल 370 की बात हो, सदियों पुराने संघर्ष के सुखद परिणाम – राम मंदिर निर्माण की बात हो, आधुनिक समाज व्यवस्था में रुकावट बना तीन तलाक हो या फिर भारत की करुणा का प्रतीक नागरिकता संशोधन कानून हो, ये सारी उपलब्धियां हैं जिस पर मोदी सरकार ने काम किया।

article_370

सोर्स : गूगल

2. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के पद के गठन करना। जिसने आज हमारी सेनाओं में समन्वय को बढ़ाया है, वहीं मिशन गगनयान के लिए भी भारत ने अपनी तैयारियां तेज कर दी हैं’।

cds-vipin-rawat

सोर्स : गूगल

3. हमारे देश ने मिशन गगनयान के लिए भी अपनी तैयारियां तेज कर दी हैं।

mission-gaganyan

सोर्स : गूगल

4. दूसरे कार्यकाल में गरीबों को, किसानों को, महिलाओं-युवाओं को सशक्त किया गया। किसान को सम्मान निधि के दायरे में प्रत्येक किसान को लाया गया।

kishan-samman-nidhi

सोर्स : गूगल

5. किसान को सम्मान निधि के तहत तहत 9 करोड़ 50 लाख से ज्यादा किसानों के खातों में 72 हजार करोड़ रुपये से अधिक राशि जमा कराई गई है।

kishan-samman-nidhi-rashi

सोर्स : गूगल

6.किसान, खेत मजदूर, छोटे दुकानदार और असंगठित क्षेत्र के श्रमिक साथियों, सभी के लिए 60 वर्ष की आयु के बाद 3 हजार रुपये की नियमित मासिक पेंशन की सुविधा सुनिश्चित हुई है।

kishan-yojna

सोर्स : गूगल

7.देश के 15 करोड़ से अधिक ग्रामीण घरों में पीने का शुद्ध पानी पाइप से मिले, इसके लिए जल जीवन मिशन शुरू किया गया है।

jal jeevan mission

सोर्स : गूगल

8. देश के 50 करोड़ से अधिक पशुधन के बेहतर स्वास्थ्य के लिए मुफ्त टीकाकरण का बहुत बड़ा अभियान भी चलाया जा रहा है।

tikakaran

सोर्स : गूगल

पीएम मोदी ने दूसरे कार्यकाल को लेकर लिखा – देश में दशकों बाद पूर्ण बहुमत की किसी सरकार को लगातार दूसरी बार जनता ने जिम्मेदारी सौंपी थी.