इन दिनों मीडिया चेनलो पर कई तरह के आरोप लग रहे हैं। इस बीच अब पारले कंपनी ने फ़ेक न्यूज़, नफ़रत वाले न्यूज़ और ग़लत न्यूज़ फैलाने वाले मीडिया चैनल्स में अपने विज्ञापन न देने का निर्णय लिया है।

parleg

Indian Civil Liberties Union के एक ट्वीट के अनुसार,

‘पारले प्रोडक्ट्स ने ज़हरीले, बुरे कन्टेन्ट वाले न्यूज़ चैनल्स पर विज्ञाप न देने का निर्य़ किया है। ये वैसे चैनल्स नहीं हैं जिस पर कंपनी अपना विज्ञापन दिखाना चाहती है क्योंकि ये हमारे टारगेट कस्टमर के लिए सही नहीं हैं। वक़्त आ गया है कि और भी कंपनियां बजाज और पारले का साथ दें।’

इससे पहले बजाज कपंनी के राजीव बजाज ने CNBC TV18 से बात-चीत में बताया था कि वो टॉक्सिक न्यूज़ चैनल्स को विज्ञापन नहीं देंगे।

rajiv-bajaj

कुछ दिनों पहले मुंबई पुलिस ने खुलासा किया था कि कुछ कंपनियां TRP के साथ छेड़खानी कर रही है। इसके बाद से ही कई कंपनियां ऐसे चैनल्स से अपने विज्ञापन वापस लेने का मन बना रही थी।

बजाज और parleg के इस कदम की लोग सोशल मीडिया खूब तारीफ कर रहे हैं।