कानपूर पुलिस के 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे को पुलिस ने शुक्रवार सुबह एनकाउंटर में मारा दिया है। ये एनकाउंटर उस वक़्त हुआ, जब यूपी एसटीएफ़ की गाड़ी विकास दुबे को मध्य प्रदेश से लेकर कानपुर आ रही थी। बता दें की विकास दुबे को कल उज्जैन मैं गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस के अनुसार, जब उसे कानपुर लेकर पहुंच रहे थे तो बर्रा के पास अचानक रास्ते में गाड़ी पलट गई, जिसके बाद विकास ने एक पुलिसवाले से पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश और पुलिस पर फ़ायरिंग शुरू कर दी। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में विकास घायल हो गया, जिसके बाद उसे हैलट हॉस्पिटल किया गया जहां पर उसकी मौत गयी।

vikas-dubey

कानपुर पुलिस ने एक न्यूज़ एजेंसी से बताया की, ‘कार पलट गई और पुलिसकर्मी और आरोपी घायल हो गए। तब विकास दुबे ने एक घायल पुलिसकर्मी से बंदूक छीन ली और भाग गया। पुलिस टीम ने उसे घेर लिया और आत्मसमर्पण करवाने की कोशिश की, लेकिन उसने इनकार कर दिया और गोलीबारी शुरू कर दी। आत्मरक्षा में पुलिस को वापस गोली चलानी पड़ी।’ आगे कहा गया, ‘विकास दुबे घायल हो गया और उसे हॉस्पिटल ले जाया गया. इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.’

accident

दरसअल विकास दुबे ने 2 जुलाई को यूपी पुलिस के आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर के चारो तरफ़ सुर्ख़ियों में आ गया था। तब ही से वो फ़रार चल रहा था। उसकी इनामी राशि भी बढाकर 5 लाख कर दी गयी थी। पुलिस लगातार उसकी तलाश कर रही थी, लेकिन वो पकड़ में नहीं आ रहा था। आख़िरकार गुरुवार सुबह उसे उज्जैन के महाकाल मंदिर से मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया।